आधुनिक भारत इतिहास के Handwritten Notes

0
325
आधुनिक भारत इतिहास के Handwritten Notes

आधुनिक भारत का इतिहास Handwritten Notes :दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आएं हैं आधुनिक भारत का इतिहास Handwritten Notes जो Candidates Railway NTPC GROUP D, SSC CGL, Bank and other Competitive Examination की तैयारी कर रहे हैं वो अब इस बुक से अपनी तैयारी और भी अच्छे से कर सकते हैं। आप इस Notes को PDF में Download करने के लिए नीचे दिये गये DOWNLOAD बटन पर click करें।

आधुनिक भारत इतिहास के Handwritten Notes

दोस्तों अगर आप UPTET CTET SSC RAILWAYS UPSC UPPSC MPPSC BIHAR POLICE UP POLICE आदि के एक्जाम की तैयारी कर रहे हैं तो ये आधुनिक भारत इतिहास के Handwritten Notes आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।

भारत में यूरोपीय कम्पनियों का आगमन

  • वास्कोडिगामा द्वारा भारत एवं यूरोप के बीच नए समुद्री मार्ग के खोज के कारण

  1. कस्तुनतूनिया पर तुर्कों का अधिकार
  2. जहाजरानी निर्माण एवं नौ परिवहन में प्रगति
  3. पुनर्जागरण की भूमिका
  4. भारत से व्यापार कर अधिक धन कमाने की लालसा
  5. यूरोप एवं एशिया के व्यापार पर वेनिस एवं जेनेवा के व्यापारियों का अधिकार
  6. एशिया का अधिकांश व्यापार अरब वासियों के हाथ एवं भूमध्य सागर तथा यूरोपीय व्यापार इटली वालों के हाथ।
  • वास्कोडिगामा

  1. यह पुर्तगाल निवासी था
  2. यह केप आफ गुड होप होते हुए एक गुजराती पथ प्रदर्शक अब्दुल मुनीक की सहायता से कालीकट बन्दरगाह पर कप्पकडाबू नामक स्थान पर पहुँचा। [१७ मई १४९८, ई में]
  3. कालीकट के तत्कालीन शासक जमोरिन ने वास्कोडिगामा का स्वागत किया

Note:- पेड्रो अल्बरेज केब्रल  भारत पहुँचने वाला दूसरा पुर्तगाली था [१५०० ई. में], १५०२ ई. में वास्कोडिगामा पुनः भारत आया था।

  • भारत में आने वाली यूरोपीय कम्पनियों का क्रम

  1. पुर्तगाली-डच-ब्रिटिश-डेनिस-फ्रांसीसी-स्वीडिश
  • पुर्तगाली

  1. 1503 ई. में कोचीन (कोल्लम) में पुर्तगालियों ने अपनी प्रथम फैक्ट्री खोली।
  • फ्रांसिस्को डि अल्मेडा 

  1. यह भारत में प्रथम पुर्तगाली गवर्नर बनकर आया।
  2. इसने 1509 में मिस्त्र,तुर्की व् गुजरात की संयुक्त सेना कर दीव पर कब्ज़ा कर लिया
  • ब्लू वाटर पॉलिसी

  1. यह पॉलिसी हिन्दू महासागर के व्यापार पर पुर्तगीज नियंत्रण स्थापित करने के लिए अल्मेडा शुरू की थी।
  • अल्फांसो डी अल्बुकर्क

  1. भारत में पुर्तग़ीज शक्ति का वास्तविक संस्थापक माना जाता है।
  2. पुर्तग़ीज सेना में भारतीयों की भर्ती प्रारंभ की।
  3. पुर्तगीजों को भारतीय स्त्रियों से विवाह के लिए प्रोत्साहित किया।
  4. अपने छेत्र में सती प्रथा पर रोक लगायी।
  5. बीजापुर के आदिल शाह से गोवा को जीता।
  6. द. पू. एशिया की महत्वपूर्ण मंडी मल्लका पर नियंत्रण स्थापित किया।
  7. फारस खाड़ी पर स्थित हरमुज पर अधिकार किया।
  • अधिकार का क्रम 

  1. गोवा (1510)-मलक्का-(1511)-हरमुज (1515)
  2. इसने गोवा को राजनीतिक व् सांस्कृतिक केन्द्र के रूप में उभारा।

PDF Size: 26 MB
No Of Pages: 85
Quality: High 
Format: PDF
Language: हिंदी (Hindi)

  • इन्हे भी पढे:

Disclaimer – We are Not Owner Of This PDF, Neither It Been Created Nor Scanned. We are Only Provide the Material Already Available on The Internet. If Any Violates The Law or there is a Problem so Please Contact Us – ATULKUMARWEBIT@GMAIL.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here