UPTET Exam Pattern 2020 and Syllabus in Hindi

0
328
UPTET Exam Pattern 2020 and Syllabus in Hindi

UPTET Exam Pattern and Syllabus– दोस्तों जैसा की आप सभी जानते ही हैं उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद् UPTET की परीक्षा हर साल फरवरी व अक्टूबर माह मे करायी जाती है। हमें उम्मीद है आपने अपनी preparation start कर दी होगी अगर नहीं की है तो आपको परेशान होने की जरुरत बिलकुल भी नहीं है। हम आपको इस परीक्षा को न सिर्फ पास करने बल्कि 120+ score कैसे करना है वो जानकारी आज हम आपको देंगे।

UPTET Exam Pattern 2020 and Syllabus in Hindi

विषय-वस्तु

प्रश्नों की संख्या

अधिकतम अंक

बाल विकास एवं शिक्षण विधि 30 30
प्रथम भाषा ( हिंदी भाषा) 30 30
द्वितीय भाषा(संस्कृत/English) 30 30
गणित 30 30
पर्यावरण अध्ययन 30 30
कुल प्रश्न- 150 अधिकतम अंक – 150

 

UPTET Syllabus कुछ ऐसा है कि इसमें बाल विकास हिंदी गणित पर्यावरण और एक भाषा आती है जिसमें अंग्रेजी उर्दू या संस्कृत कर सकते हैं। आइये अब सबसे पहले Syllabus पर विस्तार से नज़र डालते हैं-

इन्हे भी पढे: आधुनिक भारत इतिहास के Handwritten Notes

1.बाल विकास & शिक्षण विधि पाठ्यक्रम:

बाल विकास : 

  • बाल विकास का अर्थ, आवश्यकता ,क्षेत्र ,अवस्थाएं, शारीरिक ,मानसिक , संवेगात्मक , भाषायी , सृजनात्मक , बौद्धिक एवं अभिव्यक्ति क्षमता का विकास।
  • बाल विकास को प्रभावित करने वाले करक – वंशानुक्रम एवं वातावरण।

सीखने का अर्थ एवं सिद्धान्त:

  • अधिगम को प्रभावित करने वाले कारक , अधिगम की विधियां
  • अधिगम के नियम
  • अधिगम के प्रमुख सिद्धांत एवं कक्षा शिक्षण में इनकी उपयोगिता, थार्नडाइक का प्रयास एवं त्रुटि का सिद्धांत, पावलव का संबंध प्रतिक्रिया का सिद्धांत,स्किनर का क्रिया प्रसूत का सिद्धांत, कोहलर का अंतर्दृष्टि सूझ का सिद्धांत, वाइगोत्सकी का सिद्धांत, पियाजे का सिद्धांत, सीखने का वक्र एवं उनके प्रकार ,अधिगम के पठार के कारण एवं निराकरण

2. शिक्षण एवं शिक्षण विधियां

शिक्षण का अर्थ एवं उद्देश्य, शिक्षण की विधियां, संप्रेषण, शिक्षण के सिद्धांत, शिक्षण की प्रविधियां, शिक्षण की नवीन विधाएं, शिक्षण के कौशल,सूक्ष्म शिक्षण

इन्हे भी पढे: आधुनिक भारत इतिहास के Handwritten Notes

3. समावेशी शिक्षा- निर्देशन एवं परामर्श

  • शैक्षिक समायोजन से अभिप्राय, प्रकार एवं निराकरण, विशिष्ट आवश्यकता वाले बालक एवं वंचित वर्ग के बालक
  • समावेशी शिक्षा हेतु आवश्यक उपकरण एवं विधियां एवं TLM
  • समावेशित बच्चों जाँचने में हेतु आवश्यक उपकरण एवं टूल्स
  • समावेशित बच्चों हेतु विशेष शिक्षण विधियां जैसे – ब्रेल लिपि
  • समावेशित बच्चों के लिए निर्देशन एवं परामर्श
  • निर्देशन एवं परामर्श में सहयोग देने वाली संस्थाएं
  1. मनोविज्ञान शाला उत्तर प्रदेश
  2. मंडलीय मनोविज्ञान केंद्र
  3. जिला चिकित्सालय
  4. जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान
  5. पर्यवेक्षण एवं निरीक्षण तंत्र आदि।
  6. समुदाय एवं विद्यालय की सहयोगी समितियां
  7. सरकारी एवं गैर सरकारी संगठन

(ख) अधिगम एवं अध्यापन :

बालक किस प्रकार सोचते हैं विद्यालय में उनके द्वारा प्राप्त सफलताएं एवं असफलता एवं उनके कारण बालकों को होने वाले विभिन्न प्रकार की समस्याओं से संबंधित प्रश्न इस भाग में पूछे जाएंगे।

2.भाषा प्रथम- हिंदी:

  • अपठित गद्यांश
  • हिंदी वर्णमाला स्वर एवं व्यंजन,शब्द ,वाक्य एवं उनके प्रकार आदि
  • संज्ञा,सर्वनाम, विशेषण,क्रिया विशेषण एवं इनके भेद।
  • अनुनासिक एवं अनुस्वार
  • विराम चिन्ह एवं उनका प्रयोग
  • पर्यायवाची , विलोम शब्द, तुकांत ,अतुकांत एवं सामान ध्वनियाँ वाले शब्द।
  • वचन ,लिंग , काल
  • उपसर्ग प्रत्यय , देशज विदेशी भाषा के शब्द लोकोक्ति एवं मुहावरे
  • संधि- स्वर , व्यंजन एवं विसर्ग
  • वाच्य, समास एवं अलंकार एवं उनके भेद
  • कवियों एवं लेखकों की रचनाएं

(ख) भाषा विकास का अध्यापन:

इसमें भाषा एवं अर्जन बच्चों को भाषा कैसे सिखाएं उनके उच्चारण एवं लेखन संबंधी त्रुटियों को कैसे दूर करें के साथ-साथ उपचारात्मक शिक्षण एवं शिक्षण सहायक सामग्री की सहायता से भाषा अधिगम को कैसे रुचि पूर्ण बनाएं से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे।

3. भाषा द्वितीय:

English:

  • Unseen passage
  • The sentence
    • Subject and Predicate
    • Kind of sentences
  • Parts of speech
  • Tenses- Present, Past , Future
  • Article
  • Punctuation
  • Word Formation
  • Active and Passive Voice
  • Gender
  • Singular and Plural

संस्कृत:

  • अपठित अनुच्छेद
  • संज्ञाएँ ( अकारान्त, ईकारांत, उकारांत , ऋकारांत – पुल्लिङ्ग , स्त्रीलिंग, नपुंसकलिंग)
  • घर परिवार, परिवेश ,पशु ,पक्षी ,आसपास की वस्तुओं के संस्कृत में नाम
  • सर्वनाम, क्रियाएं ,अव्यय
  • संधि- स्वर , व्यंजन, विसर्ग
  • संस्कृत में गिनतियाँ
  • लिंग ,वचन, प्रत्याहार, स्वर ,स्वर के प्रकार , अनुस्वार, अनुनासिक ध्वनियाँ
  • उपसर्ग, प्रत्यय ,समास, पर्यायवाची, विलोम शब्द, कारक एवं वाच्य।
  • कवियों एवं लेखकों की रचनाएं

UPTET Exam Pattern 2020 and Syllabus in Hindi

(ख)भाषा विकास का अध्यापन:

  • अधिगम और अर्जन
  • भाषा अध्यापन के सिद्धांत
  • सुनने एवं बोलने की भूमिका, भाषा का कार्य एवं बालक इसे कैसे प्रयोग करता है।
  • एक भिन्न कक्षा में भाषा शिक्षण की चुनौतियाँ, भाषा की कठिनाइयाँ , चुनौतियाँ एवं विकार।
  • भाषा कौशल
  • उपचारात्मक शिक्षण
  • भाषा बोधगम्यता – सुनना बोलना , पढ़ना और लिखना।

4.गणित:

  • संख्याएँ एवं उनका जोड़ ,घटाना , गुना, भाग।
  • ल०स्० एवं म०स्०
  • भिन्नों का जोड़, घटाना, गुणा भाग
  • दशमलव- जोड़ , घटाना , गुणा , भाग
  • ऐकिक नियम
  • प्रतिशत
  • लाभ हानि
  • साधारण ब्याज
  • लाभ हानि
  • ज्यामिति- ज्यामितीय आकृतियां, कोण, त्रिभुज, वृत्त
  • धन
  • मापन- समय, तौल, धारिता, लंबाई, ताप
  • परिमिति(परिमाप)- त्रिभुज, आयत, वर्ग , चतुर्भुज
  • आयतन , धारिता- घन एवं घनाभ
  • कैलेंडर
  • क्षेत्रफल- आयत , वर्ग।
  • रेलवे, बस समय सारिणी।
  • आंकड़ों का प्रस्तुतीकरण एवं निरूपण।

अध्यापन सम्बंधी मुद्दें:

  • गणितीय/तार्किक चिंतन की प्रकृति
  • पाठ्यचर्या में गणित का स्थान
  • गणित की भाषा
  • सामुदायिक गणित
  • औपचारिक एवं अनौपचारिक पद्धितियों माध्यम से गणित का मूल्यांकन।
  • अध्यापन की समस्याएँ
  • त्रुटि विश्लेषण , अध्ययन एवं अध्यापन के प्रासंगिक पहलू।
  • नैदानिक एवं उपचारात्मक शिक्षण।

5.पर्यावरणीय अध्ययन:

  • परिवार
  • भोजन, स्वस्थ्य एवं स्वच्छता
  • आवास
  • मेला
  • पेड़-पौधे एवं जंतु
  • हमारा परिवेश
  • स्थानीय पेशे से जुड़े लोग
  • जल
  • यातायात एवं संचार
  • खेल एवं खेल भावना
  • भारत- नदियां, पर्वत , पठार, वन ,यातायात , महाद्वीप , महासागर
  • हमारा प्रदेश- नदियां, पर्वत, पठार , वन , यातायात
  • संविधान
  • स्थानीय स्वशासन, ग्राम पंचायत , नगर पंचायत ,जिला पंचायत, नगर निगम, नगर पालिका, जिला प्रशासन, प्रदेश के शासन व्यवस्था, कार्यपालिका व्यवस्थापिका न्यायपालिक ,राष्ट्रीय प्रतीक , राष्ट्रीय पर्व ,मतदान, राष्ट्रीय एकता
  • पर्यावरण -आवश्यकता, महत्व एवं उपयोगिता; पर्यावरण संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण हेतु सामाजिक उत्तरदायित्व एवं पर्यावरण संरक्षण हेतु चलाई जा रही योजनाएं

अध्यापन संबंधी मुद्दे:

  • पर्यावरणीय अध्ययन की अवधारणा एवं व्याप्ति
  • पर्यावरणीय अध्ययन का महत्व , एकीकृत पर्यावरण अध्ययन
  • पर्यावरणीय अध्ययन एवं पर्यावरणीय शिक्षा
  • अधिगम सिद्धांत
  • विज्ञान एवं सामाजिक विज्ञान की व्याप्ति एवं संबंध
  • अवधारणा प्रस्तुत करने के दृष्टिकोण
  • क्रियाकलाप
  • प्रयोग एवं व्यवहारिक कार्य
  • चर्चा
  • सतत एवं व्यापक मूल्यांकन
  • शिक्षण सामग्री/ उपकरण
  • समस्याएं

UPTET Exam Pattern 2020 and Syllabus in Hindi

UPTET Exam की Date FEBRUARY और OCTOBER  ( संभावित)
एग्जाम का मोड ऑफलाइन (लिखित ओएमआर आधारित परीक्षा)
प्रश्न पत्र की संख्या पेपर 1 और पेपर 2
प्रश्न का प्रकार बहुविकल्पीय
प्रश्नों की संख्या 150
कुल अंक 150 Marks
उत्तीर्ण होने हेतु अंक 90 Marks (फ़ॉर जनरल कैंडिडेट) 82 मार्क्स (फ़ॉर ओबीसी & SC/ST)
पेपर 1 प्राइमरी हेतु
पेपर 2 उच्च प्राथमिक हेतु
नकारात्मक अंक कोई नही
परीक्षा अवधि 2½ घण्टे
भाषा English and Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here